मुग़ल और सिक्खों का टकराव ‘धर्म’ नहीं बल्कि ‘सत्ता संघर्ष’ से था !

मुग़ल और सिक्खों का टकराव ‘धर्म’ नहीं बल्कि ‘सत्ता संघर्ष’ से था !
Social Media

किसान आंदोलन में सामाजिक सदभाव कि अनुठी मिसाल देखने को मिली


पिछले हफ्ते 1 मई को नौवें सिख गुरु तेग बहादुर की 400वीं जयंती थी। गुरुजी का सिख पंथ को सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण योगदान था। उन्होंने अपने सिद्धान्तों की खातिर अपने प्राण न्यौछावर कर दिए थे। वैसे गुरू नानकजी द्वारा स्थापित सिख धर्म, भारतीय उपमहाद्वीप में फलने-फूलने वाले प्रमुख धर्मों में से एक है। मुस्लिम मौलानाओं और हिन्दू पुरोहितों की कट्टरता के चलते धर्म का मानवीय पहलू कमजोर हो गया था।

उसी दौरान नानक ने इस धर्म की स्थापना की जो मानवतावाद और समानता पर आधारित था। हिन्दुत्वऔर इस्लामके टकरावपूर्ण रवैये के विपरीत इन्सानों की बराबरी का विचार ही गुरु नानक की प्रेरणा का स्त्रोत था और उन्होंने मुख्यतः उस पर ही जोर दिया।

उन्हें इस्लाम का एकेश्वरत्वऔर हिन्दू धर्म का कर्मवादपसंद था। इस्लाम की बारीकियों को समझने के उद्धेश्य से वे मक्का गए और हिन्दुत्व की गूढ़ताओं का अध्ययन करने के लिए काशी। यही कारण था कि उनके द्वारा स्थापित धर्म, आम लोगों को बहुत पसंद आया और आध्यात्मिक और नैतिक उत्थान के लिए लोग उनकी ओर खिंचते चले गए।

उन्होंने मुस्लिम सूफियों, मुख्यतः शेख फरीद और हिन्दू भक्ति संत कबीर व उनके जैसे अन्य संतों की शिक्षाओं पर जोर दिया। उन्होंने रस्मों-रिवाजों से ज्यादा महत्व मनुष्यों के मेलजोल को दिया और दोनों धर्मों के पुरोहित वर्ग द्वारा लादे गए कठोर नियम-कायदों का विरोध किया।

पढ़ें : ब्रिटेन का डायवर्सिटी क्वाइन’ बनेगा सभ्यताओं का गठजोड़

पढ़ें : सूफी-संत मानते थे राम-कृष्ण को ईश्वर का पैगम्बर

पढ़ें : सूफी-संतो को कभी नहीं थी जन्नत की लालसा!

शिक्षाओं के मूल में नैतिकता

समाज में व्याप्त अस्पृश्यता और ऊँच-नीच को समाप्त करने के लिए सिख समुदाय द्वारा शुरू की गई लंगर (सामुदायिक भोजन) के आयोजन की परंपरा भारत के बहुधार्मिक समाज को सिक्ख धर्म का बड़ा उपहार है। आज भी जब कोई भी समुदाय भोजन की कमी का सामना करता है तब सिख आगे बढ़कर लंगरों का आयोजन करते हैं।

उन्होंने रोहिंग्याओं के लिए लंगर चलाए तो आंदोलनरत किसानों के लिए भी। कोरोना काल में सिख समुदाय गुरूद्वारों में आक्सीजन लंगरका आयोजन कर रहा है, जो पीड़ित मानवता की सेवा का अप्रतिम उदाहरण है।

सिख धर्म के अपने धर्मशास्त्र और धार्मिक आचरण संबंधी नियम हैं। सिक्खों की पवित्र पुस्तक गुरु ग्रंथ साहिबसंपूर्ण भारतीय समाज को एक अमूल्य भेंट है क्योंकि उसमें सिख गुरुओं के अतिरिक्त भक्ति और सूफी संतों की शिक्षाओं का भी समावेश है।

सिख धर्म की शिक्षाओं के मूल में है नैतिकता और समुदाय के प्रति प्रेम। सिख धर्म जाति और धर्म की सीमाओं को नहीं मानता। अमृतसर के स्वर्ण मंदिर की नींव का पत्थर सूफी संत मियां मीर ने रखा था। यह संकीर्ण धार्मिक सीमाओं को लांघने का प्रतीक था। संत गुरू नानक ने स्वयं कहा था न मैं हिन्दू न मैं मुसलमां।हिन्दू धर्म और इस्लाम उस क्षेत्र के प्रमुख धर्म थे।

इन दिनों कुछ लोग यह दावा करते हैं कि सिख धर्म, क्रूर मुसलमानों से हिन्दुओं की रक्षा करने के लिए गठित हिन्दू धर्म की शाखा है। यह कहा जाता है कि सिख धर्म मुख्यतः मुसलमानों द्वारा प्रस्तुत चुनौती से मुकाबला करने के लिए अस्तित्व में आया था।

पढ़ें : इन्सानियत को एक जैसा रख़ती हैं भक्ति-सूफी परंपराएं

पढ़ें : पहुंचे हुए चमत्कारी फकीर थे मलिक मुहंमद जायसी

पढ़ें : किसी उस्ताद के बगैर वे बन गए अमीर खुसरौ

दिलचस्प तथ्य

इसमें कोई संदेह नहीं कि कुछ सिख गुरुओं को मुग़ल शासकों, विशेषकर औरंगजेब, के हाथों क्रूरता का शिकार होना पड़ा। परंतु यह सिख धर्म के इतिहास का एक हिस्सा भर है। मुख्य बात यह है कि सिख धर्म का उदय एक समावेशी और समतावादी पंथ के रूप में हुआ था।

बाद में सिक्ख समुदाय ने अपने आपको सत्ता के केंद्र के रूप में संगठित किया। मुस्लिम शासकों और सिख गुरुओं के बीच टकराव, सत्ता संघर्ष का हिस्सा था और इसे इस्लाम और सिख धर्म के बीच टकराव के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

नानक के बाद के गुरुओं से अकबर के बहुत मधुर रिश्ते थे। गुरू अर्जनदेव और जहांगीर के बीच कटुता इसलिए हुई क्योंकि गुरु ने विद्रोही शहजादे खुसरो को अपना आशीर्वाद दिया था। कुछ अत्यंत मामूली घटनाओं ने भी इस टकराव को बढ़ाया। इनमें शामिल था बादशाह के शिकार के दौरान उनके सबसे पसंदीदा बाज का गुरु के शिविर में पहुंच जाना।

यह दिलचस्प है कि सिख गुरुओं और मुग़ल बादशाहों के बीच एक लड़ाई में सिख सेना का नेतृत्व पेंदा खान नाम के एक पठान ने किया था। सिख गुरुओं का पहाड़ों के हिन्दू राजाओं से भी टकराव हुआ। इनमें बिलासपुर के राजा शामिल थे। सिखों के एक राजनैतिक सत्ता के रूप में उदय से ये राजा खुश नहीं थे।

इस बात के भी सबूत हैं कि औरंगजेब और सिख गुरूओं के रिश्ते केवल टकराव पर आधारित नहीं थे। औरंगजेब ने गुरू हरराय के बेटे रामकिशन को देहरादून में जागीर दी थी। औरंगजेब और सिख गुरुओं के बीच टकराव की कुछ घटनाओं को इस रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है मानो सभी मुग़ल बादशाह सिखों के खिलाफ थे।

यह प्रचार किया जाता है कि कश्मीर के मुग़ल गवर्नर इफ्तिखार खान की इस पद पर 1671 मे नियुक्ति के बाद से वहां हिन्दुओं का दमन शुरू हुआ। इफ्तिखार के पहले सैफ खान कश्मीर के गवर्नर थे और उनका मुख्य सलाहकार एक हिन्दू था।

इफ्तिखार खान, शियाओं के खिलाफ भी था। नारायण कौल द्वारा 1710 में लिखे गए कश्मीर के इतिहास में हिन्दुओं को प्रताड़ित किए जाने की कोई चर्चा नहीं है।

पढ़ें : क्यों ढहाये हिन्दू शासकों ने मंदिर, तो मुसलमानों ने मस्जिदे?

पढ़ें : दो राजाओं की लड़ाई इतिहास में हिन्दू मुस्लिम कैसे हुई?

पढ़ें : क्या हैदरअली नें वडियार राजवंश से गद्दारी कि थी?

समतावादी आंदोलन

इसमें कोई संदेह नहीं कि औरंगजेब के आदेश पर गुरु तेग बहादुर को दिया गया मुत्युदंड क्रूर और अनावश्यक था। इसी के नतीजे में गुरु गोविन्द सिंह ने खालसा पंथ की स्थापना की। अधिकांश युद्धों में धर्म केंद्रीय तत्व नहीं था, यह इससे साफ है कि कई पहाड़ी राजाओं की संयुक्त सेना ने आनंदपुर साहब में गुरु पर आक्रमण किया था।

औरंगजेब ने दक्कन से लाहौर के मुग़ल गवर्नर को पत्र लिखकर गुरु गोविन्द सिंह से समझौता करने का निर्देश दिया था। गुरू के पत्र के जवाब में औरंगजेब ने उन्हें मिलने के लिए दकन आने का निमंत्रण दिया। गुरू दकन के लिए निकल भी गए, परंतु रास्ते में उन्हें पता लगा कि औरंगजेब की मौत हो गई है।

सिख धर्म मूलतः एक समतावादी धार्मिक आंदोलन था, जिसका बाद में राजनीतिकरण एवं सैन्यीकरण हो गया। सिख धर्म सबाल्टर्न समूहों की महत्वाकांक्षाओं से उपजा था। इन महत्वाकांक्षाओं को सिक्ख गुरुओं ने जगाया।

सिख धर्म ने पुरोहितवादी तत्वों के सामाजिक वर्चस्व को चुनौती दी और समानता के मूल्यों को बढ़ावा दिया। उसने तत्समय के सभी धर्मों की अच्छी शिक्षाओं से स्वयं को समृद्ध किया और संकीर्ण सीमाओं से ऊपर उठकर मानवता का झंडा बुलंद किया।

यह प्रचार कि औरंगजेब भारत को दारूल इस्लामबनाना चाहते थे तर्कसंगत नहीं लगता। औरंगजेब के दरबार में हिन्दू अधिकारियों की संख्या, उनके पूर्व के बादशाहों की तुलना में 33 प्रतिशत अधिक थी। औरंगजेब के राजपूत सिपहसालारों में राजा जय सिंह और जसवंत सिंह शामिल थे।

औरंगजेब को अफगान कबीलों से लड़ने में अपनी काफी ऊर्जा व्यय करनी पड़ी। गुरु तेग बहादुर और अन्य सिख गुरू मानवतावाद के हामी थे और हमारे सम्मान के हकदार हैं।

जाते जाते :

क्या मुगल काल भारत की गुलामी का दौर था?

* शहेनशाह हुमायूं ने लगाया था गोहत्या पर प्रतिबंध

मुस्लिम शासकों ने महामारी से प्रजा को कैसे बचाया?

डेक्कन क्वेस्ट के फेसबुक पेजट्विटर हैंडल और यूट्युब से जुड़ें

You can share this post!

author

राम पुनियानी

लेखक आईआईटी मुंबई के पूर्व प्रोफेसर हैं। वे मानवी अधिकारों के विषयो पर लगातार लिखते आ रहे हैं। इतिहास, राजनीति तथा समसामाईक घटनाओंं पर वे अंग्रेजी, हिंदी, मराठी तथा अन्य क्षेत्रीय भाषा में लिखते हैं। सन् 2007 के उन्हे नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित किया जा चुका हैं।