कृषि क्षेत्र को नही पूँजीपतियों का फायदा

कृषि क्षेत्र को नही पूँजीपतियों का फायदा
PTI

2018 में मुंबई में अपनी मांगो के लिए प्रदर्शन करते किसान


राज्यसभा में कृषि सुधार से संबंधित दो बिल ध्वनि मत से पारित हो गए हैं। इस दौरान तमाम विपक्षी दलों ने विधेयक का विरोध करते हुए जोरदार हंगामा किया। विपक्षी दलों का मानना हैं की, इस सुधार विधेयक से खेती का नीजीकरण होकर किसानी कंपनी फार्मिंग बन जाएगी। राज्यसभा में आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने बील कि मुखालिफत कर उसे किसानों नही बल्कि पूंजीपतीयो के फायदा का बताया उनका यह भाषण हम राज्यसभा टीवी के सौजन्य से दे रहे हैं।

मान्यवर, मैं इस सरकार के लिए चंद लाइनों से अपनी बात शुरू करूँगा कि

झील पर पानी बरसता है हमारे देश में,

खेत पानी को तरसता है हमारे देश में,

राजनेता, हाकिमों और पागलों को छोड़ कर,

तुम बताओ कौन हँसता है हमारे देश में।

आज आपने इस कानून के जरिए किसानों के साथ विश्वासघात और धोखा करने का काम किया है। आप एक योजना लेकर आए हैं, जिससे आप आगे चल कर सारे कृषि क्षेत्र को पूँजीपतियों के हाथ में देना चाहते हैं।

मान्यवर, इसलिए मैं आम आदमी पार्टी की ओर से इस बिल का विरोध करता हूँ। यह किसानों के लिए एक काला कानून है, जो यह सरकार लेकर आ रही है। आपकी बात पर यकीन कैसे किया जाए, आपने तो किसानों की आत्महत्या का आँकड़ा भी बताना बंद कर दिया है।

मान्यवर, आज किसान देश भर में जो आत्महत्याएँ कर रहे हैं, उसका आपको कोई आँकड़ा नहीं मिल सकता। आपने हमेशा राज्यों के अधिकार को छीनने का काम किया। आप जीएसटी लेकर आए, बड़े-बड़े वादे किए, आज आप राज्यों को उनके टैक्स का शेयर नहीं देते। आप यातायात कानून (Motor Vehicle Act) लेकर आए, आपने राज्यों का अधिकार छीना।

पढ़े : कृषि सुधार या किसानों के खात्मे की इबारत ?

पढ़े : चीन के अवैध कब्जे को लेकर सरकार ने सदन में क्या कहा?

आप Dam Safety Act लेकर आए, आपने राज्यों का अधिकार छीना। आपने किसानों की आय दोगुना करने की बात कही, आपने किसानों को धोखा देने का काम किया। आपने MSP डेढ़ गुना करने की बात कही, आपने किसानों को धोखा देने का काम किया।

आपने दो करोड़ रोजगार देने की बात कही, आपने 12 करोड़ बेरोजगारों की फौज खड़ी कर दी, नौजवानों को धोखा देने का काम किया। आपने देश के लोगों को 15 लाख देने की बात कही, आपने देश की जनता को धोखा देने का काम किया।

आपने कहा कि इस देश के अंदर कई लाख करोड़ रुपए काला धन लाकर हम इस देश में काला धन वापस लाएँगे, आप आज तक एक रुपया काला धन नहीं ला पाए, आपने देश की जनता को धोखा देने का काम किया। आपने Digital India’ का नारा दिया, आपने Startup India’ का नारा दिया, आपने Make in India’ का नारा दिया।

आपकी सरकार है, जिसने एफडीआई का जम कर विरोध किया और आज आप कृषि क्षेत्र को पूँजीपतियों के हाथ में गिरवी रखने जा रहे हैं। देश के किसानों की आत्मा को बेचने जा रहे हैं।

मान्यवर, पंजाब के किसान विरोध कर रहे हैं, हरियाणा के किसान विरोध कर रहे हैं, उत्तर प्रदेश के किसान विरोध कर रहे हैं। पूरे देश के किसान आज सड़कों पर उतर कर आपका विरोध कर रहे हैं। अंत में मैं सिर्फ एक बात कह कर अपनी बात को खत्म करूँगा।

यहाँ पर माननीय भूपेंद्र यादव जी कह रहे थे कि 70 के दशक में किसानों को भड़काया गया और यह कहा गया कि पानी से बिजली निकाल कर पानी की ताकत खत्म कर दी जाएगी और आज आधुनिक भारत में क्या हो रहा है, आज के नेता नाले की गैस से चाय बना रहे हैं।

पढ़ें : विकास में देश से आगे फिर भी कश्मीर के साथ अन्याय क्यों हुआ?’

पढ़ें : झुठ और धोकेबाजी से हुई निरस्त धारा 370

हमको वह दुकान बता दीजिए, जहाँ नाले की गैस से चाय मिलती हो, हम वह चाय पीना चाहते हैं। आप भी उसी तरीके के वादे करके, असत्य वादे करके आप देश की जनता को, किसान को गुमराह करने का काम कर रहे हैं।

यह सरकार नया पैकेज लेकर आती है और बड़ी-बड़ी बातें करती है। दिल्ली के मुख्य मंत्री श्री अरविंद केजरीवाल जी ने इस बिल का विरोध करने की बात कही है। हमारी पार्टी पंजाब से लेकर पूरे देश में इस बिल का विरोध करेगी। हमारी सरकार ने दिल्ली में किसान को 2,600 रुपये क्विंटल धान का दाम देने का काम किया है। हम किसानों के हक़ में हैं, किसानों के साथ हैं। और इस बील का विरोध करते हैं।

You can share this post!

author

टीम डेक्कन

***