बाबर - भारत की विशेषताएं खोजने वाला मुघल शासक

बाबर - भारत की विशेषताएं खोजने वाला मुघल शासक
Wikimedia Commons

Babur Founder of the Mughal Empire in India


वर्तमान में बाबर को निरंतर प्रयासों के चलते एक धर्मांध शासक के रुप में प्रस्तुत किया जाता रहा है। मुद्दों का संक्षिप्तीकरण करने कि प्रक्रिया इतिहासलेखन शास्त्र के मुलाधार पर हमेशा से आघात करते आई है। जैसे बाबर कि जिन्दगीयों की कुछ घटनाएं और उसने आत्मचरित्र में लिखे हुए कई तथ्यों कि गलत व्याख्या कर उसे धर्मांध नहीं कहा जा सकता, वैसे ही किसी एक घटना को लेकर बाबर को एक सहिष्णु उदार राज्यकर्ता के रुप में चित्रित करना भी उचित नहीं होगा। बाबर मध्यकालीन राज्यसंस्था का प्रतिनिधी था, उसने जो कुछ उस संस्था के हित में समझा किया। मगर फिर भी बाबर अपनी सत्ता के हित में कभी अंधा नहीं था।

मुहंमद जियाउद्दीन बाबर मुगल साम्राज्य का संस्थापक था। वह मध्यकालीन भारत का एक ऐसा सेनापती था जिसने अपने जीवन में कई बार ध्वस्त होने के बावजूद एक इतिहास कि नींव रखी। बाबर अपनी मां की ओर से चंगेज खान और पिता कि तरफ से तैमूर का वंशज था। इस तरह बाबर में एशिया के दो महान सेनापतीयों का विरसा मौजूद था। 

अपने पिता शेख उमर मिर्जा कि मौत के बाद बाबर ने 8 जून 1494 को 11 साल कि उम्र में सत्ता की बागडौर हाथ में ली। बाबर को सत्ता तो मिली, लेकीन अपने चचा और भाईयों कि साजिशों की वजह से वह टिक सकी। कुछ ही दिन में बाबर सत्ता से दूर हो गया, जो बाबर कुछ दिन पहले राजपरिवार का हिस्सा था, सत्ता प्रमुख रहा, वह अब दर-दर कि ठोकरें खा रहा था।

यह भी पढे :  मुगल हरम’ शायरी का मर्कज या वासना का केंद्र

यह भी पढे : अपनी बेटी जिनतुन्निसा और येसुबाईशाहू महाराज के साथ औरंगजेब के कैसे थें रिश्ते?

बाबर जंगलो में अपने साथीयों के साथ अपने भविष्य कि जंग लड रहा था। सन 1497 से लेकर बाबर 1504 तक भटकता रहा। ईसवी 1504 में बाबर के पास सिर्फ दो सिपाही बचे थे, बाबर का बल पुरी तरह से खत्म हो चुका था। मगर बाबर में अपने पुर्वजों का महान विरसा मौजूद था, जो उसे एक इतिहास कि रचना करने के लिए उसे उद्युक्त कर रहा था। बाबर अपनी एक कविता में लिखता है -

हाय मैने अपनी जिंदगी में कौनसे दुख और दर्द के पहाड नहीं झेले

कौनसा नुकसान सहन किया।

इस हृदयने सारे कष्ट उठाए।

हाय मैंने क्या कुछ सहा?

इस दयनीय स्थिती से बाबर फिर उठ खडा हुआ, उसने काबूल पर जीत हासील की। लेनपुल जो बाबर का चरित्रकार है, लिखता है, ‘‘बाबर एक बाग में मृत्यु की प्रतिक्षा में पडा था, मगर उसकी किस्मत दुबारा जाग उठी।’’ काबूल जितने के पश्चात बाबर वहां 1524 तक राज करता रहा। काबूल का प्रदेश काफी छोटा था, कम आय में गुजारा करना मुश्कील बन रहा था, जिसके बाद उसने साम्राज्य विस्तार का फैसला किया।

उसके सामने पिता का राज्य दुबारा प्राप्त करने का पर्याय भी उपलब्ध था, मगर राणा संगा और दौलतखान लोदी के निमंत्रण पर वह भारत की तरफ चल पडा। ईसवीं 1519 से 1524 तक बाबर ने भारत पर हमला करने के चार असफल प्रयत्न किए और आखिरकार 21 अप्रैल 1526 को उसने इब्राहिम लोदी को पराजित कर दिल्ली में मुगल साम्राज्य कि नींव रखी।

यह भी पढे : दक्षिण में तीन दशक तक औरंगजेब मराठो सें लोहा लेता रहा

यह भी पढे :  मुघल इतिहास में अनारकली का इतिहास क्या हैं?

बाबर कि पानिपत की जीत ऐतिहासिक थी, दुनिया के महान विजेताओं की पंक्ती में इस जीत ने बाबर को खडा किया। रशब्रुक विल्यम (Rushbrook Willams) अपनी किताब दि ग्रेट मॅन ऑफ इंडिय़ा में लिखते हैं, “बाबर ने जब पानिपत कि जंग के लिए मैदान में कदम रखा तो उसके साथ मात्र 8 हजार सैनिक थे।’’ मगर अन्य इतिहासकारोंने यह कहते हुए इस तथ्य को मानने से इनकार किया है की, “यह संख्या शुरुआती दौर की है, जब बाबर ने काबूल जिता था, पंजाब कि जीत के बाद इसमें काफी बढोतरी हुई और बाबर का सैन्यबल 25 हजार के करीब जा पहुंचा।

यह मान भी लिया जाए की, बाबर के पास 25 हजार सैन्य थें, तब भी बाबर की जीत का महत्व कम नहीं होता। उसका एक मात्र प्रमुख कारण, प्रतिस्पर्धी इब्राहिम लोदी का सैन्यबल और उसकी राजनितिक स्थिती है। माणिकलाल गुप्ता अपनी मध्यकालीन भारत किताब में कहते हैं, “इब्राहिम लोदी के पास तकरीबन 1000 हाथी और 1 लाख सैनिकों का उल्लेख है परंतु उसके युद्धरत सैनिक योद्धाओं की संख्या 40 हजार के लगभग रही होगी। यह युद्ध 21 अप्रैल को शुरु हुआ और मध्यान्ह तक उसका निर्णय हो गया। जंग में बाबर कि विजय हुई, सुल्तान इब्राहिम लोदी वीरगती को प्राप्त हुआ, अफगान बुरी तरह पराजित हुए।

बाबरने इस जंग में तुलगमायुद्ध नीति का प्रयोग किया था। जिसमें शबखुन मारना, (छिपकर हमले) अंधेरे और पहाडीयों का सहारा लेकर  हमले करने जैसे तंत्र शामिल थें।

यह भी पढे : दकन के अस्मिता पुरुष छत्रपति शिवाजी और वली औरंगाबादी

यह भी पढे :  वीर तानाजी मालुसरे का इतिहास हुआ सांप्रदायिकता का शिकार

बाबर और भारत

इस विजय के बाद बाबर का ईसवी 1526 को भारत में आगमन हुआ। बाबर मुलतः एक अभ्यासक था। वह जहां भी गया वहां की संस्कृति, लोकभाषा, लोकजीवन, भौगोलिक रचना का उसने अध्ययन किया। अपने निरिक्षण शक्तीसे जो कुछ समझा उसे अपनी जीवनीतुज्क बाबरीमें लिखता रहा।

डॉ. एस.एल. नागोरी और कांता नागौरी जो बाबर के इतिहास के अभ्यासक हैं, वे लिखते हैं, “बाबर ने हिंदुस्तान के हाथी गेंडे, जंगली भैंसे, नीलगाय, मुर्गी आदि पशुओं का वर्णन करते हुए उनके स्वभाव के बारे में लिखा हैं। उसने बंदर, नेवला एवं गिलहरी की भी चर्चा की है। मोर, तोते, शहामुर्ग, सारस, नीलकंठ कोयल, चमगादड आदि पक्षियों का भी वर्णन किया हैं। जल जंतुओ में मेंढक, घडियाल और मछलियों के बारे में लिखा हैं। बाबर ने फलो में आम की काफी प्रशंसा की है। उसने आम के साथ केले, इमली, जामुन, बेर, खुरमे, नारियल, ताड, चिरौंजी आदि के बारे में विस्तृत रुप से लिखा है। इसके अतिरिक्त भारतवर्ष की ऋतुओं, सप्ताह के दिन, समय विभाजन, तौल का भी उसने विवरण दिया है।

यह भी पढे :  बहुलता मे भारत के फिर से एक बार खोज जरुरी

यह भी पढे :  भाजपा शासित राज्य में बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा

बाबर हमेशा से खुबसुरत चिजों का आशिक रहा। नए विषय का ज्ञान लेना, नए प्रदेशों को भेंट देना, नई वस्तुओं, फलों, जानवरों की जानकारी लेना उसकी खुबी रही। उसके सभी जीवनीकारों एवं अभ्यासकों ने इस बात की पुष्टी की है की, उसने कभी एक जगह दो से अधिक ईद नहीं मनायी।

बाबर ने भारत के बारे में अपना मत विस्तारपुर्वकतुज्क बाबरीमें लिखा है, वह जब भारत में आया तबसे लेकर आखिर तक उसने भारत की विशेषताएं खोजने का प्रयास किया। बाबरने भारत की खुबसुरती और उसका वर्णन करने के लिए कविताएं लिखी हैं। कई बार उसने दुसरों की कविताओं का उल्लेख किया है। उसने आम कि तारीफ करते हुए अमीर खुसरो का एक शेर दिया है, जिसमें खुसरो कहते हैं -

नगज के मा नगज कुने बुस्तां

नगज के तरीन मेवए हिन्दुस्तां

भावार्थ - मेरी माशुका आम, बाग कि खुबसुरती बढाने वाला फल, हिन्दुस्तां का सबसे अच्छा फल

बाबरनामा

मध्यकालीन भारत के इतिहास में चचनामा, अदाबुल हर्ब वल शुजाअत, तारिख फेरोजशाही, आईन अकबरी जैसे महान ग्रंथो का जो स्थान हैं, वही स्थान बाबर के आत्मचरित्र को दिया जाता हैं। इसकी रचनाशैली, भाषा, शब्दों का चयन तथा लेखन कि सरलता ने इसकी महानता को अधोरेखित किया हैं। एनेट ब्रेवरिज (Annette Bevridge) जिन्होंने बाबर के इतिहास अध्ययन को नए आयाम दिए है। उनका कहना है की, “बाबर के आत्मचरित्र कि तुलना विश्व के महान महाकाव्यों से भी की जा सकती है, जैसे कीख्रिस्तोमयी टरकेका उदाहरण लिया जा सकता है।

यह भी पढे :  वेदों और उपनिषदों का महान अभ्यासक था अल बेरुनी

यह भी पढे :  विश्व के राजनीतिशास्त्र का आद्य पुरुष था अल फराबी

बाबरनामा में व्याकरणशास्त्र से लेकर काव्य समिक्षा तक सेंकडो अलग विषयों पर चर्चा कि गई हैं। बाबर अपनी गलतीयों को तक छुपाता नहीं, अपने कमीयों पर स्वयं टिप्पणी करते हुए बाबरने अपनी आत्मा से कविताओं के माध्यम से कई सवाल किए हैं। बाबरने जिन कवियों, तत्ववेत्ताओं का उल्लेख किया हैं, उसके आधार से यह कहा जा सकता हैं की, बाबर ने सेंकडो ग्रंथो का अध्ययन किया था। तर्कशास्त्र, राजनितीशास्त्र, धर्म, लोकजीवन, भाषा आदि का उसका ज्ञान केवल सराहनीय है, बल्की उस वक्त कि उपलब्धीयों के आधार पर उसकी समिक्षा की जाए तो आश्चर्यरकारक भी हैं। निसंदेह इतिहास के शोधकर्ताओं के लिए बाबर का यह ग्रंथ मध्यकालीन फारसी, तुर्की साहित्य को समझने के लिए मददगार हैं।

You can share this post!

author

सरफराज अहमद

लेखक युवा इतिहासकार तथा अभ्यासक हैं। मराठी, हिंदी तथा उर्दू में वे लिखते हैं। मध्यकाल के इतिहास में उनकी काफी रुची हैं। दक्षिण के इतिहास के अधिकारिक अभ्यासक माने जाते हैं। वे गाजियोद्दीन रिसर्स सेंटर से जुडे हैं। उनकी मध्ययुगीन मुस्लिम विद्वान, सल्तनत ए खुदादाद, असा होता टिपू सुलतान, आसिफजाही इत्यादी कुल 8 किताबे प्रकाशित हैं।